• श्रीमद भागवत कथा एवं श्री राम कथा के आयोजन हेतु संपर्क करें -
  • मुख्य कार्यालय: श्री प्रेमप्रभा कुंज,सांवलिया बाबा का मंदिर,तुलसी नगर, श्री अयोध्या - जिला फैजाबाद उत्तर प्रदेश  9838718711
श्रीमद भागवत कथा एवं श्री राम कथा

डॉ श्री रघुपति त्रिपाठी, जिन्होंने भक्ति के रसायन शास्त्र की रचना की सबसे महत्वाकांक्षी रस के माध्यम से जीवित प्राणियों और जनता के लिए संगीत कहानी वनी माध्यमम, रसभालाशी चेतक विकास, और श्री भागवत के गहन वक्ता और श्री राम कथा, एक भावुक और विनम्र व्यक्ति के साथ समृद्ध है।...

आचार्य डॉ. रघुपति त्रिपाठी जी महाराज

प्रवक्ता आगे पढें...
भागवतगीता के लोकप्रिय श्लोक

कोई नहीं जानता कि कल क्या होगा। इसलिए, बुद्धिमान पुरुषों को कल का काम आज करना चाहिए।

कठोर प्रयासों के बिना कुछ भी पूरा नहीं किया जा सकता है। एक हिरण की खुराक की तरह ही शेर के मुंह में प्रवेश न करें, बिना शिकार के जा रहे हों।

एक आदमी को अपने दिमाग का उपयोग करके खुद को अपनाना चाहिए और खुद को अपमानित नहीं करना चाहिए। मन सशक्त आत्मा के साथ-साथ इसके दुश्मन का मित्र है।

आने वाले कार्यक्रम

There are many variations of passages of randomised words which don't look even slightly believable. You need to be sure there isn't anything embarrassing.

There are many variations of passages of randomised words which don't look even slightly believable. You need to be sure there isn't anything embarrassing.

There are many variations of passages of randomised words which don't look even slightly believable. You need to be sure there isn't anything embarrassing.

श्रीमद्भागवत पुराण हिन्दू धर्म का सर्वाधिक महत्वपूर्ण पुराण है। यह वैष्णव सम्प्रदाय का प्रमुख ग्रन्थ है। इस ग्रन्थ में वेदों, उपनिषदों तथा दर्शन शास्त्र के गूढ़ एवं रहस्यमय विषयों को अत्यन्त सरलता के साथ निरूपित किया गया है। इसे भारतीय धर्म और संस्कृति का विश्वकोष कहना अधिक समीचीन होगा। सैकड़ों वर्षों से यह पुराण हिन्दू समाज की धार्मिक, सामाजिक और लौकिक मर्यादाओं की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता आ रहा हैं।

ये तथ्य अधिक जरूरी है कि भागवत पुराण का श्रवण करना प्रत्येक हिंदू धर्मानुयायी की लिए अत्याधिक आवश्यक है। चारो धामों की यात्रा कर भागवत पुराण की कथा का विधिसम्मत आयोजन तथा श्रवण करना हर हिंदू का परम कर्तव्य कहा गया है।

अगर किसी समय में हम भगवान के सम्मुख नहीं हो पाते हैं, तो ऐसे में केवल संत ही कल्याण कर सकता है। संत की एक नजर पड़ने पर कल्याण हो जाता है। अगर किसी समय में हम भगवान के सम्मुख नहीं हो पाते हैं, तो ऐसे में केवल संत ही कल्याण कर सकता है। संत की एक नजर पड़ने पर कल्याण हो जाता है।

हाल की फ़ोटो

हाल के वीडियो